आईसीएटी ने भारत का प्रथम बीएस-6 प्रमाण पत्र जारी किया

नईदिल्ली,10 जून (आरएनएस)। इंटरनेशनल सेंटर फॉर ऑटोमोटिव टेक्नोलॉजी (आईसीएटी) ने आज नई दिल्ली में दोपहिया खंड में भारत स्टेज-6 (बीएस-6) मानकों के लिए भारत का प्रथम टाइप अप्रूवल सर्टिफिकेट (टीएसी)जारी किया।
यह प्रमाण पत्र आईसीएटी के निदेशक दिनेश त्यागी द्वारा जारी किया गया और ओईएम (मौलिक उपकरण विनिर्माता) के शीर्ष अधिकारियों के सुपुर्द किया गया।
इस अवसर पर त्यागी ने कहा कि बीएस-6 मानकों के लिए दोपहिया खंड में यह भारत का प्रथम प्रमाण पत्र है। बीएस-6 मानक, नवीनतम उत्?सर्जित मानकों के रूप में हाल ही में भारत सरकार द्वारा अधिसूचित किए गए हैं। उन्होंने कहा कि आईसीएटी ने ऑटोमोटिव उद्योग के विकास, अनुकूलन और इन भावी उत्सर्जित मानकों का अनुपालन करने के लिए इंजनों तथा वाहनों की जांच में सहायता और सहयोग देने की दिशा में अनेक कदम उठाए हैं।
भारत स्टेज मानक ऑटोमोटिव उत्सर्जन मानक हैं। भारत में अपने वाहन बेचने के लिए ऑटोमोटिव विनिर्माताओं को इनका अनुपालन करना पड़ता है। ये मानक सभी दोपहिया, तिपहिया और चार पहिये वाले वाहनों तथा निर्माण उपकरण वाहनों पर लागू होते हैं।
वाहनों से होने वाले उत्सर्जन के कारण वायु प्रदूषण के बढ़ते खतरों पर काबू पाने के लिए भारत सरकार ने लम्बी छलांग लगाते हुए मौजूदा बीएस-4 मानकों से बीएस 6 मानकों पर जाने का फैसला किया है। इस प्रकार 1 अप्रैल 2020 से बीएस-5 मानकों को छोड़कर सीधे बीएस 6 मानक लागू करने का फैसला किया गया है। 1 अप्रैल, 2020 से केवल उन्हीं वाहनों को भारत में बेचा और पंजीकृत किया जाएगा, जो इन मानकों का अनुपालन करेंगे। ये मानक कड़े हैं और अंतर्राष्ट्रीय मापदंडों के अनुरूप हैं।
पिछले साल, आईसीएटी ने भारी वाहन खंड में मैसर्स वोल्वो आयशेर कमर्शियल व्हिकल्स के लिए बीएस-6 मानकों के लिए स्वीकृति जारी की थी। वह भी भारत में अपने खंड में प्रथम थे।
आईसीएटी सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय द्वारा प्राधिकृत प्रमुख परीक्षण एवं प्रमाणन एजेंसी है, जो भारत और विदेश में वाहनों और संघटक विनिर्माताओं के लिए परीक्षण एवं प्रमाणन सुविधाएं उपलब्ध कराती है।
००

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *