चुनाव बाद यूपी में शुरू होगी दुश्मनी पार्ट-2:मोदी

एटा,20 अपै्रल (आरएनएस)। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सुप्रीमो मायावती के मैनपुरी में दिये गये ‘कठिन फैसलाÓ वाले बयान पर कटाक्ष करते हुये प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि स्वार्थ की खातिर समाजवादी पार्टी (सपा) और बसपा की दोस्ती का अंत 23 मई होना निश्चित है जब देश की सुरक्षा और स्वाभिमान के लिये मतदाता भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नीति राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) की पूर्ण बहुमत की सरकार के पक्ष में फैसला सुनायेंगे।
श्री मोदी ने यहां एक रामलीला मैदान में चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुये कहा कि हवा का रूख बताता है कि चुनाव का नतीजा तय हो चुका है। दिल्ली में बैठे लोग कहते है कोई लहर नजर नही आ रही। एसी कमरों में बैठकर जनता जनार्दन के मिजाज को पहचाना नही जा सकता है। पहले दो चरणो के मतदान के बाद जो मोदी को गाली देते थे। उनका चेहरा लटक गया है। यह चुनाव निहित स्वार्थ की खातिर देश को धर्म और जाति के नाम पर बांटने वालो और देश के विकास का सपना देखने वालों के बीच है।
श्री मोदी ने कहा सपा और बसपा के झंडे अलग है लेकिन नीयत एक जैसी है। सरकारें बदली लेकिन व्यापारी और किसानों को लूटने का काम एक जैसा होता था। बुआ (मायावती) और बबुआ (अखिलेश यादव) के शासनकाल में दलितों पर अत्याचार सबने देखा है। यह कौन करता था। उन्हे (मायावती) अपने कठिन फैसले की याद आ जायेगी। उन्होने कहा सपा शासन के दौरान कानून व्यवस्था की स्थिति देश में चर्चा का विषय बनी हुयी थी। समाजवादी गुंडों ने गरीब मध्यम वर्ग की जमीन को कब्जाने का अभियान चलाया था। उसने कितनो का जीवन बेकार कर दिया है। सपा सरकार के शासनकाल में बेटियों का स्कूल जाना मुश्किल भरा होता था। ऐसे ही लोगों को आपके बीच लाकर खड़ा कर दिया है और मायावती उनका समथर्न कर रही है। वाकई यह कठिन फैसला है। बहन बेटियों पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने वालों के लिये सत्ता की खातिर बसपा प्रमुख को वोट मांगना पड़ रहा है। मै फिर कहूंगा कि आपका फैसला बहुत कठिन है।
श्री मोदी ने कहा कि यूपी की जनता दुश्मन को दोस्त बनाने वालों के साथ कभी नहीं जा सकती बल्कि देश का गौरव बढाने वाली मजबूत सरकार के पक्ष में खडी है। खोखले वादे और खोखली दोस्ती करने वालो का इतिहास आप अच्छी तरह जानते है। वर्ष 2017 के विधानसभा चुनाव में भी ऐसी ही एक दोस्ती हुयी थी जो चुनाव खत्म होते ही दुश्मनी में बदल गयी। इसी तरह इस गठबंधन के टूटने की तारीख भी तय है । फर्जी दोस्ती टूटने का दिन 23 मई गुरूवार को निर्धारित किया गया है। उस दिन बुआ (मायावती) और बबुआ (अखिलेश यादव) भी अपनी दुश्मनी का पार्ट-2 शुरू कर देंगे। एक दूसरे को समाप्त करने की धमकियां देने लगेंगे। सिर्फ अपना हित सोचने वाले दलित वंचित गरीब का भला नही सोच सकते। इनके आसपास कितने गरीब है जिनको इन्होने आगे बढाया है।
००

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *