बजट सत्र की शुरूआत में राष्ट्रपति ने गिनाईं मोदी सरकार की उपलब्धियां

नई दिल्ली ,31 जनवरी (आरएनएस)। संसद का बजट सत्र आज (31 जनवरी) से शुरू हो रहा है। संसद का यह सत्र मोदी सरकार के कार्यकाल का आखिरी सत्र होगा, इस दौरान सरकार संसद में अंतरिम बजट पेश करेगी। गुरुवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद बजट सत्र से पहले संसद के दोनों सदनों को संबोधित किया।

इस दौरान उन्होंने देश की सुरक्षा में तैनात सुरक्षाबलों का जिक्र करते हुए कहा कि मैं पूरे राष्ट्र की ओर से उन शहीदों को सलाम करता हूं, जिन्होंने देश के लिए अपने प्राणों का आहुति दे दी। उन्होंने कहा कि 2014 में मेरी सरकार ने एक नया भारत बनाया। ऐसा भारत जिसमें अस्वच्छता के लिए स्थान नहीं हो और समाज की आखिरी पंक्ति में खड़े व्यक्ति तक सब कुछ पहुंचे। सामाजिक न्याय के आदर्शों के साथ आगे बढऩे की सोच ने मेरी सरकार की योजनाओं को आधार दिया। स्वच्छ भारत अभियान के तहत 9 करोड़ से ज्यादा शौचालयों का निर्माण हुआ है। इस जन आंदोलन के कारण आज ग्रामीण स्वच्छता का दायरा बढ़कर 98 प्रतिशत हो गया है, जो कि वर्ष 2014 में 40 प्रतिशत से भी कम था।

राष्ट्रपति ने कहा कि हमारा देश गांधी जी के सपनों के अनुरूप, नैतिकता पर आधारित समावेशी समाज का निर्माण कर रहा है। हमारा देश बाबा साहब डॉक्टर भीमराव आंबेडकर द्वारा संविधान में दिए गए सामाजिक और आर्थिक न्याय के आदर्शों के साथ आगे बढ़ रहा है। हमारी बहुत सी माताएं, बहनें और बेटियां, चूल्हे के धुएं के कारण बीमार रहती थीं, पूरे परिवार का स्वास्थ्य प्रभावित होता था और उनका अधिकांश समय, ईंधन जुटाने में लग जाता था। दशकों के प्रयास के बाद भी वर्ष 2014 तक हमारे देश में केवल 12 करोड़ गैस कनेक्शन थे। बीते केवल साढ़े चार वर्षों में मेरी सरकार ने कुल 13 करोड़ परिवारों को गैस कनेक्शन से जोड़ा है। इसके अलावा ‘प्रधानमंत्री जन आरोग्य अभियानÓ के तहत देश के 50 करोड़ गरीबों के लिए गंभीर बीमारी की स्थिति में, हर परिवार पर प्रतिवर्ष 5 लाख रुपए तक के इलाज खर्च की व्यवस्था की गई है। सिर्फ 4 महीने में ही इस योजना के तहत 10 लाख से ज्यादा गरीब अपना इलाज करवा चुके हैं। वहीं ‘प्रधानमंत्री भारतीय जन औषधि परियोजनाÓ के तहत देश भर में अब तक 600 से ज्यादा जिलों में 4,900 जन औषधि केन्द्र खोले जा चुके हैं। इन केन्द्रों में 700 से ज्यादा दवाइयां बहुत कम कीमत पर उपलब्ध कराई जा रही हैं।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *