सेल ने किया सर्वाधिक क्रूड स्टील का उत्पादन

नई दिल्ली ,03 अपै्रल (आरएनएस)। देश की सार्वजनिक क्षेत्र की सबसे बड़ीइस्पात उत्पादक कंपनी ने पिछले वित्त वर्ष 2018-19 में उत्पादन, तकनीकी-आर्थिक मानकों और विक्रय इत्यादि जैसे मानकों पर बेहतर प्रदर्शन किया है। सेल ने वित्त वर्ष 2018-19 में 16.3 मिलियन टन क्रूड स्टील का उत्पादन किया है, जो वित्त वर्ष 2017-18 के मुकाबले 8 प्रतिशत अधिक है। इसके साथ ही कंपनी ने वित्त वर्ष 2018-19 के दौरान अभी तक का सर्वाधिक विक्रेय इस्पात का उत्पादन किया है। सेल के निष्पादन में दर्ज किया गया यह सुधार नई मिलों से उत्पादन में आई तेजी और बढ़ोत्तरी से संभव हुआ है। इससे सेल के उत्पाद श्रृंखला को और विविधता प्रदान करने में मदद मिली है। सेल ने हाल ही में विकसित अपने डेडिकेटेड लॉजिस्टिक सेट-अप के समुचित उपयोग से वित्त वर्ष 2018-19 में अब तक का सर्वाधिक 14.86 मिलियन टन स्टील प्रेषित करने में सफलता हासिल की है।
सेल के वित्त वर्ष 2018-19 का समापन इसकी चौथी तिमाही के शानदार निष्पादन के साथ हुआ है, जिसमें कंपनी ने हॉट मेटल में 10 प्रतिशत, क्रूड स्टील में 8 प्रतिशत, विक्रेय इस्पात में 14 प्रतिशत और विक्रय में 13 प्रतिशत की बढ़ोतरी दर्ज की है। वित्त वर्ष 2018-19 में सेल ने यूटीएस 90 रेल का अब तक का सर्वाधिक 9.85 लाख टन उत्पादन किया है। सेल ने पहली छमाही के मुकाबले दूसरी छमाही में 35 प्रतिशत वृद्धि दर्ज करते हुए 5.66 लाख टन रेल का उत्पादन किया है। सेल ने इस बेहतर निष्पादन से वित्त वर्ष 2018-19 के दौरान, वित्त वर्ष 2017-18 के मुकाबले 16 प्रतिशत की बढ़त हासिल करते हुए कुल 66,100 करोड़ रुपये का कारोबार किया है। सेल अध्यक्ष अनिल कुमार चौधरी ने कार्मिकों के प्रयासों की सराहना करते हुए कहा कि सेल के कायाकल्प के लिहाज से वित्त वर्ष 2018-19 महत्वपूर्ण साल रहा, जिसमें सेल ने नई मिलों से उत्पादन में तेजी लाने और विक्रय में वृद्धि के साथ उत्पादन, तकनीकी-आर्थिक मानकों, उत्पादन लागत, वैल्यू एडेड उत्पादों के उत्पादन में वृद्धि जैसे क्षेत्रों में बेहतर निष्पादन किया है। सेल अध्यक्ष ने बताया कि आने वाला साल अधिक चुनौतीपूर्ण होगा क्योंकि हमें क्रूड स्टील के उत्पादन में 21प्रतिशत की वृद्धि हासिल करने की दिशा में आगे बढऩा है। इसके साथ ही आधारभूत संरचना और विनिर्माण के क्षेत्र में बढ़ती स्टील की मांग से घरेलू स्टील की बढ़ रही तेज खपत को पूरा करने के लिए विक्रय में भी इसी गति से वृद्धि हासिल करनी होगी। आगे उन्होंने कहा, ष्सेल वित्त वर्ष 2019-20 में नई ऊंचाइयों को छूने के लिए पूरी तरह से तैयार है।
००

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *