एंटी सैटेलाइट मिसाइल का परीक्षण कर चौथी महाशक्ति बना भारत

नई दिल्ली ,27 मार्च (आरएनएस)। भारत द्वारा अंतरिक्ष में एंटी सैटेलाइट मिसाइल से एक लाइव सैटेलाइट को मार गिराए जाने संबंधी ‘मिशन शक्तिÓ अभियान का राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू, लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन एवं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने स्वागत करते हुए बुधवार को कहा कि यह परीक्षण भारत की वैज्ञानिक क्षमता और देश की सुरक्षा के लिये अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी के उपयोग का प्रतीक है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा कि मिशन शक्ति भारत के लिये अभूतपूर्व क्षण है। एंटी सैटेलाइट मिसाइल के परीक्षण से भारत की वैज्ञानिक क्षमता और हमारे लोगों के सशक्तिकरण एवं सुरक्षा के लिये अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी के उपयोग की प्रतिबद्धता झलकती है। उन्होंने कहा कि वह सभी वैज्ञानिकों और संबंधित लोगों को इसके लिये बधाई देते हैं।
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि भारत ने अंतरिक्ष क्षेत्र में जो काम किया है, उसका मूल उद्देश्य भारत की सुरक्षा, भारत का आर्थिक विकास और भारत की तकनीकी प्रगति है। आज का यह श्मिशन शक्तिश् इन सपनों को सुरक्षित करने की ओर एक अहम कदम है। उन्होंने कहा कि वह मिशन शक्ति से जुड़े सभी अनुसंधानकर्ताओं और अन्य सहयोगियों को बहुत-बहुत बधाई देते है, जिन्होंने इस असाधारण सफलता को प्राप्त करने में योगदान दिया है। हमें हमारे वैज्ञानिकों पर गर्व है। उपराष्ट्रपति एम वेकैया नायडू ने अपने ट्वीट में देश के अंतरिक्ष वैज्ञानिकों को मिशनशक्ति की सफलता के लिए बधाई देते हुए कहा कि उपग्रह रोधी मिसाइल के सफल प्रक्षेपण से देश विश्व में एक अंतरिक्ष महाशक्ति के रूप में उभरा है। आपकी उपलब्धि पर हर देशवासी को गर्व है। लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने कहा अंतरिक्ष में भारत को विश्व की चौथी महाशक्ति बनाने, राष्ट्र की सुरक्षा को अत्यधिक मजबूत बनाने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को मनपूर्वक ह्रदय से बधाई। महाजन ने कहा कि अंतरिक्ष में महाशक्ति, भारत के श्मिशन शक्तिश् को सफल बनाने के लिए हमारे वैज्ञानिकों, कर्मियों को बहुत बधाई। गौरतलब है कि भारत ने अंतरिक्ष में एंटी सैटेलाइट मिसाइल से एक लाइव सैटेलाइट को मार गिराते हुए आज अपना नाम अंतरिक्ष महाशक्ति के तौर पर दर्ज कराया और ऐसी क्षमता हासिल करने वाला दुनिया का चौथा देश बन गया।
००

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *