आप लोगों से अच्छे तो स्कूली बच्चे

नई दिल्ली ,18 दिसंबर (आरएनएस)। राफेल मामले में सांसदों के हंगामे के करण बीते एक हफ्ते से ठप लोकसभा की कार्यवाही मंगलवार को स्पीकर सुमित्रा महाजन को बेहद नागवार गुजरी। शून्यकाल के दौरान स्पीकर ने कहा कि आप लोग (सांसद) तो स्कूली बच्चों से भी गए गुजरे हैं। इस बात को समझिये संसद में हर विवाद का निपटारा सिर्फ और सिर्फ बहस और चर्चा से ही संभव है। सदस्य मुझे कड़े नियम बनाने केलिए बाध्य न करें। हालांकि इसके बाद भी स्थिति जस की तस रहने पर उन्होंने कार्यवाही दिन भर के लिए स्थगित कर दी।
शून्यकाल के दौरान स्पीकर ने पहले तो वेल में आ कर हंगामा कर रहे सांसदों को समझाने की लगातार कोशिश की। इसके बाद भी सांसदों की नारेबाजी जारी रहने पर वह बेहद नाराज हो गईं। उन्होंने कहा कि आप लोग स्कूली बच्चों से भी गए गुजरे हैं। आपके बर्ताव के कारण दुनिया भर में भारत बदनाम हो रहा है। मुझे दूसरे देशों के स्पीकर फोन करकेकहते हैं कि उनके यहां तो ऐसा नहीं होता।
इतना ही नहीं स्पीकर ने सांसदों को जिम्मेदारी लेने की भी नसीहत दी। कहा कि सांसदों को दस से पंद्रह लाख वोट मिलते हैं। यहां उनकी समस्या उठाएं। वैसे भी देश की सबसे बड़ी पंचायत हंगामे की नहीं चर्चा की जगह है। स्पीकर ने कहा कि सदन तो नियमों केमुताबिक ही चलेगा। इसके चलाने के अपने नियम हैं। मुझे कड़े नियम बनाने केलिए बाध्य नहीं करें।
सारा सत्र धुलने के आसार
राफेल मुद्दे पर सरकार की विपक्ष की संयुक्त संसदीय समिति की मांग संसद और संसद के बाहर ठुकराए जाने केबाद संसद का पूरा शीतकालीन सत्र ही धुलने केआसार बन गए हैं। कांग्रेस इस मामले में जेपीसी के गठन से कम पर मानने केलिए तैयार नहीं है, जबकि संसदीय कार्यमंत्री नरेंद्र तोमर ने लोकसभा में और वित्त मंत्री ने एक टीवी चैनल के कार्यक्रम में विपक्ष की मांग खारिज कर दी। लोकसभा में तो कांग्र्रेस संसदीय दल के नेता मल्लिकार्जुन खडग़े और तोमर केबीच तीखी नोकझोंक भी हुई।
शून्यकाल में खडग़े ने कहा कि सिर्फ जेपीसी गठन ही इस समस्या का एकमात्र समाधान है। क्योंकि यही एक संस्था है जो सभी पक्षों को तलब कर दूध का दूध और पानी का पानी कर सकती है। खडग़े ने कहा कि राफेल पर बीते सत्र में बहुत चर्चा हो चुकी है। अब सुप्रीम कोर्ट में सरकार की ओर से हलफनामे में सीएजी और पीएसी को इस सौदे की जानकारी होने का गलत तथ्य दिया गया।
जवाब में तोमर ने कहा कि इस मामले में सरकार केक्लिन चिट दे कर सुप्रीम कोर्ट ने वैसे ही दूध का दूध पानी का पानी कर दिया है। ऐसे में जेपीसी के गठन की जरूरत नहीं है। जरूरत इस सौदे पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की ओर से की गई गलतबयानी पर चर्चा कराया जाना है। उधर जेटली ने भी विपक्ष की मांग को खारिज कर दिया है।
मंत्री की माइक पर बिजोया ने राहुल को कहा चोर
प्रश्नकाल के दौरान लोकसभा में उस समय अजीब स्थिति उपत्नन कर दी जब भाजपा सांसद विजोया चक्रवर्ती ने सवाल का जवाब दे रहे कृषि मंत्री राधामोहन सिंह की माइक से कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को चोर बताया। इसके बाद लोकसभा में दोनों ओर से घमासान शुरू हो गया ओर जवाब में कांग्रेस ने देश का चौकीदार चोर है का नारा लगाया। प्रश्न काल और शुन्यकाल के दौरान सत्ता पक्ष के सदस्यों ने जवाब दे रहे मंत्रियों और सवाल कर रहे सांसदों की माइकों का जम कर इस्तेमाल किया।
००

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *