बघेल के अडऩे से लटका छग सीएम का मामला

नई दिल्ली ,15 दिसंबर (आरएनएस)। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी शनिवार को दिन भर की गई मैराथन बैठक के बाजवूद छत्तीसगढ़ केसीएम पद की गुत्थी नहीं सुलझा पाए। दरअसल कांग्रेस नेतृत्व की इस पद के लिए पहली पसंद सूबे के इकलौते सांसद ताम्रध्वज साहू के खिलाफ इस पद के अन्य तीन दावेदारों भूपेश बघेल, टीएस सिंहदेव और चरण दास महंत ने हाथ मिला लिया। राहुल गांधी खबर लिखे जाने तक इन्हें साहू के नाम पर सहमत नहीं कर पाए थे। ऐसे में अब सूबे में राजस्थान की तर्ज पर डिप्टी सीएम बनाने के फार्मूले से विवाद का हल निकालने की कोशिश की जा रही है।
पार्टी के अतिविशिष्टï सूत्र के मुताबिक चूंकि रविवार को विधायक दल की बैठक और 17 दिसंबर को नए सीएम का शपथ होना तय है। ऐसे में शनिवार देर रात तक नेतृत्व सीएम के नाम पर अंतिम मुहर लगा लेगा। उक्त सूत्र के मुताबिक राज्य में भाजपा के समर्थक रहे साहू बिरादरी केमतदाताओं को अगले लोकसभा में अपने साथ लाने के लिए नेतृत्व ताम्रध्वज को सीएम बनाना चाहता है। मगर इसके लिए बघेल ने न सिर्फ असहमति दर्ज कराई है, बल्कि उसकेसाथ दूसरे दो दावेदार भी खड़े हो गए हैं।
पार्टी सूत्रों के मुताबिक विवाद के हल के लिए नेतृत्व ने बघेल को डिप्टी सीएम, टीएस सिंहदेव को वित्त मंत्री और सत्येंद्र नारायण शर्मा को अहम मंत्रालय देने का नया फार्मूला तैयार किया है। इस फार्मूले पर शनिवार देर रात माथापच्ची होगी। दरअसल कांग्रेस नेतृत्व की निगाहें हिंदी पट्टïी के तीन राज्यों में सीएम के पद के बहाने अगले लोकसभा चुनाव में भाजपा को पटखनी देने की है। इसी रणनीति के तहत राजस्थान की कमान युवा राजेश पायलट की जगह धुरंधर राजनीतिज्ञ अशोक गहलोत को तो मध्य प्रदेश में युवा ज्योतिरादित्य सिंधिया की जगह कमलनाथ के नाम पर मुहर लगी। इसी कड़ी में कांग्रेस नेतृत्व छत्तीसगढ़ की कमान साहू को देना चाहता है और बघेल को डिप्टी सीएम बनने केलिए राजी किया जा रहा है।
००

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *