लंबित मांगों को लेकर शासकीय अधिकारी-कर्मचारियों ने किया जोरदार विरोध-प्रदर्शन

रायपुर, 27 जून (आरएनएस)। छत्तीसगढ कर्मचारी-अधिकारी फेडरेशन के तत्वाधान में आज राज्य भर के शासकीय कर्मचारियों ने अपनी लंबित मांगों को लेकर सांकेतिक हड़ताल किया। राजधानी के बूढ़ातालाब धरना स्थल में शासकीय कर्मचारियों ने अपनी एकजुटता दिखाई और लंबित मांगों को पूरा कराने नारेबाजी की।
छत्तीसगढ़ प्रदेश में करीब 2 लाख 25 हजार की संख्या में शासकीय कर्मचारी और अधिकारी कार्यरत हैं। शासकीय कर्मचारियों व अधिकारियों के करीब 28 संगठन है। इन सभी संगठनों के नेताओं ने पूर्व में बैठक और चर्चा कर अपनी एकजुटता दिखाई थी और आज 27 जून को सामूहिक अवकाश लेकर एक दिवसीय सांकेतिक हड़ताल का ऐलान किया था। इसी क्रम में आज राज्य भर के शासकीय कर्मचारियों ने सामूहिक अवकाश लेकर सांकेतिक हड़ताल में शामिल हुए। ज्ञात हो कि कर्मचारी संगठन ने चार स्तरीय पदोन्नति वेतनमान, वेतन विसंगति, सहित अनेक मुद्दों पर आज तक किसी प्रकार की सकारात्मक पहल नही होने के कारण प्रतीकात्मक रूप से विरोध स्वरूप एक दिवसीय सांकेतिक हड़ताल कर प्रदर्शन किया है। शासकीय अधिकारियों-कर्मचारियों के अनुसार वर्ष 2013 के घोषणा पत्र में तृतीय व चतुर्थ कमचारी वर्ग के लिए भाजपा सरकार ने कुछ वादे किए थे। उन मांगों के पूरा ना होने पर प्रदेशभर के कर्मचारी वर्ग ने आज एक दिन का अवकाश लेकर प्रदर्शन करने जुट गए हैं। आज पूरा दिन प्रदर्शन के बाद कर्मचारी संगठन अपने-अपने जिलों में कलेक्टर को ज्ञापन सौंपेंगे। इसके बाद भी यदि मांगों पर गंभीरता से विचार नहीं किया जाता अथवा कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया तो कर्मचारियों ने अनिश्चितकालिन हड़ताल पर जाने का फैसला किया है।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *