गांधी की 150वीं जयंती पर प्रसाद ने किया ‘डिजिटल चरखे का अनावरण

नईदिल्ली,03 अक्टूबर (आरएनएस)। इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने बड़े उत्साह एवं सच्ची भावना के साथ महात्मा गांधी की 150वीं जयंती मनाई। इस अवसर पर मंत्रालय ने 23 सितम्बर से 02 अक्टूबर तक ‘स्वच्छता ही सेवाÓ की थीम के साथ पूरे सप्ताह अनेक गतिविधियां आयोजित कीं। इनमें इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के अधिकारियों और कर्मचारियों ने सक्रियतापूर्वक भाग लिया। कार्यान्वयन के लिए दिन-वार कार्य योजना तैयार की गई जिसके तहत ‘प्लास्टिक कचरे का निपटान और एकल उपयोग प्लास्टिक पर कारगर प्रतिबंधÓ एक महत्वपूर्ण अभियान था और जिसमें बड़े पैमाने पर समुदाय को शामिल किया गया।
इस विशेष अवसर पर इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी, संचार और विधि व न्याय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा, ‘हम प्लास्टिक मुक्त कार्य स्थल की ओर बढऩे के लिए प्रतिबद्ध हैं। वर्ष 2020 तक एकल उपयोग प्लास्टिक में कमी के लिए सरकारी मशीनरी जोर-शोर से लगी हुई है।Ó
उन्होंने कहा कि गांधीवादी दर्शन समाज के सामंजस्यपूर्ण विकास के लिए अब भी समान रूप से प्रासंगिक है। इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के अधीनस्थ विभागों को गांधी के उपदेशों को दिन-प्रतिदिन के जीवन में लागू करना चाहिए। इससे न केवल स्वच्छ भारत लक्ष्य को जल्द प्राप्त करने, बल्कि महिलाओं का सशक्तिकरण और बेहतर गवर्नेंस सुनिश्चित करने में भी मदद मिलेगी। प्रसाद ने एनआईसी को निर्देश दिया कि वह स्वयं के द्वारा प्रबंधित की जाने वाली प्रत्येक वेबसाइट में कम से कम एक गांधीवादी विचारधारा को प्रमुखता के साथ प्रस्तुत करे। उन्होंने कहा कि इससे सरकार के कामकाज में गांधीवादी अवधारणा आएगी।
प्रसाद ने एक फिल्म भी लॉन्च की जिसमें मंत्रालय के उन कार्यकलापों को दर्शाया गया है जो स्वच्छता, देश में हाशिये पर पड़े लोगों के समावेश, कड़ी मेहनत और देश को सुशासन की ओर ले जाने के लिए समर्पण से संबंधित गांधीवादी दर्शन के अनुरूप हैं।
सरकार देश के नागरिकों के हित में विभिन्न स्तरों पर अनेक कल्याणकारी कार्यक्रम/योजनाएं कार्यान्वित कर रही है। चिन्हित महत्वपूर्ण प्रदर्शन संकेतकों (केपीआई) के जरिए विभिन्न स्तरों पर इस तरह के कार्यक्रमों/योजनाओं के नतीजों एवं प्रभावों की कारगर निगरानी जरूरी है। मंत्री ने ऑटोमेटेड रियल टाइम परफॉरमेंस स्मार्ट-बोर्ड का उदघाटन किया जिसे इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने विकसित किया है। यह परफॉरमेंस स्मार्ट-बोर्ड इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय द्वारा कार्यान्वित केन्द्र, राज्य अथवा जिला विशिष्ट परियोजनाओं के लिए एकल खिड़की पहुंच (सिंगल विंडो एक्सेस) सुविधा है। यह इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय की महत्वपूर्ण एवं उच्च प्राथमिकता वाले कार्यक्रम/योजनाओं के लिए वास्तविक समय पर गतिशील एवं विश्लेषणात्मक परियोजना निगरानी उपलब्ध कराएगा।
महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि देते हुए प्रसाद ने ‘डिजिटल चरखेÓ का अनावरण किया जो इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय में एक भव्य कलात्मक अधिष्ठापन या आकृति है। अपने तिरंगे वैभव में चमकता डिजिटल चरखा दरअसल डिजिटल चक्रण और पारंपरिक डिजाइन का एक अनूठा संगम है। चरखे का पहिया महीन धागों के स्थान पर आपस में जुड़े डिजिटल ग्रिड से बना है, अत: यह इस बात को दर्शाता है कि डिजिटल इंडिया का मूल मुख्य रूप से समानता, एकता, भ्रष्टाचार मुक्त और आम नागरिकों के सशक्तिकरण के गांधीवादी दर्शन में निहित है।
००

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *